Monday, March 8, 2021
Tags मनुष्य का दोहरा चरित्र

Tag: मनुष्य का दोहरा चरित्र

मन की व्यथा – विचारों की कथा

"मन की व्यथा विचारों की कथा  सब तितर-बितर हो जाता है ।। जब अपनों से मिलता है, दुख -दर्द तब पीड़ा असहनीय हो जाता है ।। जिंदगी हर...

Most Read

उलझने (जिंदगी कि )

उम्र के साथ जिंदगी अपने आयाम बदलती रहती है ।कभी दुखो का सिरा मिलता है,तो कभी उलझन में ही गुम हो जाता है ।...

मन की व्यथा – विचारों की कथा

"मन की व्यथा विचारों की कथा  सब तितर-बितर हो जाता है ।। जब अपनों से मिलता है, दुख -दर्द तब पीड़ा असहनीय हो जाता है ।। जिंदगी हर...

मनोरंजन के (पुराने संसाधन)

आज से ठीक 30, 35 साल पहले की दुनिया कुछ और थी और आज कुछ और है । बात यहां पर अगर मनोरंजन से...

बुद्धिमान लोगों की पहचान

आज वक्त ऐसा है कि अगर आप के पास बुद्धि नहीं है तो आप के पास कुछ भी नहीं है । दुनिया मे लोग...